Thursday, 28 July 2016

दिल से दिल तक शायरी


दिल से दिल तक...


जब कोई ख्याल दिल से टकराता है ॥
दिल ना चाह कर भी, खामोश रह जाता है ॥
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है॥
कोई कुछ ना कहकर भी, सब बोल जाता है ॥

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.