Sunday, 11 October 2015

दो लफ्ज दर्द शायरियाँ


यद् भुलाने को

सिगरेट जलाई थी तेरी याद भुलाने को
मगर कम्बख्त धुए ने तेरी तस्वीर बना डाली

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.