Wednesday, 1 July 2015

किसी और के दिल में ना रहे

दिल की बात दिल में ना रहे ॥
आखों के ख्वाब, आखों में ना रहें ॥
दिल की बात इस लिये कह दी आप को ॥
के, गलती से आप, किसी और के दिल में ना रहे ॥

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.