Saturday, 23 May 2015

शायरी गम भरी


शिकायत..


में खफा नहीं हूँ जरा उसे बता देना
आता जाता रहे यहाँ इतना समझा देना !
में उसके गम में शरीक हूँ
पर मेरा गम न उसे बता देना,
जिन्दगी कागज की किश्ती सही,
शक में न बहा देना !

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.