Monday, 4 May 2015

इंतज़ार शायरी


इंतज़ार ...

इंतज़ार की आरज़ू अब खो गयी है,
खामोशियो की आदत हो गयी है,
न सीकवा रहा न शिकायत किसी से,
अगर है तो एक मोहब्बत,
जो इन तन्हाइयों से हो गई है..!

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.