Saturday, 23 May 2015

लव सायरी


लव….

   

मुद्दत से तमन्ना हुई अफसाना न मिला ……
हम खोजते रहे मगर ठिकाना न मिला …………..
लो आज फिर चली गई जिंदगी नजरो के सामने से ……
और उसे कोई रुकने का बहाना न मिला

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.