Friday, 13 March 2015

हिन्दी कविता





कम नही लगती...

अपनोकी ईनायत कभी खतम नही होती
रीस्तोकी महेक भी कभी कम नही होती
जीवनमें साथ हो गर कीसी सच्चे रीस्तोका
तो ये जींदगी कीसी जन्नंतसे कम नही लगती

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.