Tuesday, 3 March 2015

शायरी लव की

लव  शायरी 


शायर तो हम है शायरी बना देंगे
आपको शायरी मे क़ैद कर लेंगे|
कभी सूनाओ हमे अपनी आवाज़
आपकी आवाज़ को हम ग़ज़ल बना देंगे.||

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.