Saturday, 26 April 2014

हिंदी इश्क शायरी


तेरी एक हसी पे ये दिल कुर्बान कर जाओ ,
ऐतराज़ न हो अगर तो तेरा दिल चुरा ले जाओ ,
न बहने दू कभी इन आखो से आंसू ,
तू कहे तो तेरे सारे सितम सह जाओ .

हँसता हुआ रखु तेरे लबो को हमेशा ,
चूमकर जिन्हें वोह प्यारी मुस्कान दे जाओ ,
सीने से लगा के रखु तुम्हे ,
मनन तो करता है तुझमे समां जाऊ .

सुनता ही रहू तुम्हारी धडकनों को ,
और अपने दिल की हर बात कह जाऊ ,
गम को कभी करीब न आने दू ,
और तुम्हे ज़िन्दगी की खुशिया तमाम दे जाओ

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.