Monday, 6 January 2014

इंतजार शायरी

 इंतजार शायरी

अजीब सी कशिश हैं तुम में;
कि हम तुम्हारे ख्यालों में खोये रहते है;
ये सोचकर कि तुम ख्यालों में आओगे;
हम दिन रात बस सोए रहते है।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.