Saturday, 4 January 2014

इश्क़ का शायरी

इश्क़ शायरी

तेरे इश्क का बुखार है मुझको;
और हर चीज खाने की मनाही है;
एक हुस्न के हकीम ने सिर्फ;
तेरे चमन की मौसमी बताई है।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.