Wednesday, 8 January 2014

अरमान शायरी





मैं कुछ लम्हा और तेरे साथ चाहता था;
आँखों में जो जम गयी वो बरसात चाहता था;
सुना हैं मुझे बहुत चाहती है वो मगर;
मैं उसकी जुबां से एक बार इज़हार चाहता था।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.