Saturday, 10 August 2013

रिश्ते कविता

हर रिश्ते में विश्वास रहने दो;
जुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो;
यही तो अंदाज़ है जिंदगी जीने का;
न खुद रहो उदास, न दूसरों को रहने दो।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.