Wednesday, 17 April 2013

जिंदगी शायरी


लफ्ज़ वही हैं , माईने बदल गये हैं
किरदार वही ,अफ़साने बदल गये हैं
उलझी ज़िन्दगी को सुलझाते सुलझाते
ज़िन्दगी जीने के बहाने बदल गये हैं.

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.